Rup Das (@rup_das__)

When "Ma" flows unconditionally through the holly place !! Ganga - Haridwar !! #TravelDairies
#uttarakhand
#haridwar
#HarKiPauri
#TheGhaat
#peace

Mayank Choudhary (@mayank_mynk)

Not all the glitters are gold
Same way not all humans have a golden heart..
Random thought.

#canon700D #canon📸 #streetphotography #haridwar

SanjaySinghNegi (@sanjayneg596gmail)

regram @all_about_uttarakhand_news
चंपावत जिले पिछले दो सालों में यहां 80 हजार किलो चाय पत्ती का उत्पादन हुआ.18 ग्राम पंचायतों की 202 हेक्टेयर जमीन पर इसकी फसल लहलहा रही है. इससे ग्रामीणों की आय बढ़ने के साथ ही रोजाना करीब चार सौ श्रमिकों को भी रोजगार मिल रहा है.दो सौ साल पहले अंग्रेजों ने चम्पावत क्षेत्र में चाय की खेती शुरू की थी.अब विदेशी प्यालों की शान बढ़ा रही है. 1995-96 में टी बोर्ड के गठन के बाद पर्वतीय क्षेत्रों में चाय विकास योजना को लागू करने के प्रयास शुरू हुए. जनपद की सिलंगटाक ग्राम पंचायत में चाय बागान की शुरुआत की गई. 2004 में इस दिशा में काम और आगे बढ़ा.
ग्राम पंचायतों में काश्तकारों की भूमि पर चाय बागान लगाने के काम में तेजी आई. 2007 में छीड़ापानी में नर्सरी बनने के साथ ही इसके रोपण में तेजी आ गई. वर्तमान में सिलंगटाक, छीड़ापानी, मुड़ियानी, मौराड़ी, मझेड़ा, चौकी, च्यूरा खर्क, भगाना भंडारी, नरसिंह डांडा, कालूखाण, गोसनी, फुंगर, लमाई, चौड़ा राजपुर, खेतीगाड़, बलाई आदि ग्राम पंचायतों की 202 हेक्टेयर भूमि पर चाय के बागान है.टी बोर्ड के स्थानीय प्रबंधक डैसमेंड बताते हैं कि यहां चाय की नर्सरी तैयार होने से चार सौ से अधिक लोगों को प्रतिदिन रोजगार मिल रहा है. ग्राम पंचायतों में मनरेगा योजना के तहत भी इसकी खेती को प्रोत्साहित करने से अब कई किसान सामने आने लगे है. टी बोर्ड द्वारा चाय के पौधों के रोपण के साथ ही तीन साल तक लगातार इनकी देखभाल की जाती है. सात साल बाद भू-स्वामी को पूरा स्वामित्व दे दिया जाता है. पिछले दो वर्षों में यहां 80 हजार किलो एक्सपोर्ट क्वालिटी की जैविक चाय का उत्पादन हुआ. इस वर्ष साल 50 हजार किलो उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है.
उत्तराखंड टी बोर्ड इस चाय पत्ती को फिलहाल 1200 रुपये प्रति किलो की दर से बेच रहा है. इस जैविक चाय की मार्केटिंग कोलकाता में होती है. पैरामाउंट मार्केटिंग कंपनी इस चाय को जर्मनी इंग्लैंड सहित कई यूरोपीय देशों को निर्यात करती है.बंदर, सूअर आदि चाय के पौधों को नुकसान नहीं पहुंचाते है. इस कारण जंगली जानवरों के उत्पात से परेशान पर्वतीय क्षेत्र के किसानों के लिए चाय के बागान तैयार करना लाभदायक हो रहा है|
#bjp #congress
#auli #badrinath
#Dehradun #Haridwar #Chamoli, #Rudraprayag #Tehri #Uttarkashi, #Pauri #Garhwal #Almora #Nainital #Pithoragarh #UdhamSinghNagar, #Bageshwar #Champawat #kumaon
#animal #delhi #pantnagar
#Uttarakhand #kedarnath #pahadi #tea #ganga #ganges #mussorie

Nikhil Sunpat (@nikhilsunpat)

Hope will burn you down first. But if you stick to it long enough, it may will light you up too.

Haridwar 2017

#haridwar #ganga #faith

Samriddhi Verma (@samriddhiverma)

When your day start wid divine ganga🏞️ #haridwar#harkipodi

Raj Deep 🏍️ (@just_another_guy_with_a_camera)

| Shaam ki aarti in H A R I D W A R |
.
.
.
The evening aarti at Har-ki-pauri is a must. The traditional way of worshiping Goddess Ganga will definitely cast a spell on you. The chants and the huge fire creates a different aura altogether, with thousands of people from all over the world chanting in their own tunes.
But saying that Haridwar isn't about just pilgrimage, for there's a lot more to discover. It's a place where you can just sit by the banks of Ganges for hours, staring at the ripples and listening to the music of the gushing water, and may be you can take a dip in the water to add more freshness to life!
.
#harkipauri #haridwar #aarti #ganga #ganges #reflectiongram #reflection #travelgram #trip #traveldiaries #tripstagram #tripdiaries #pilgrimage #evening #bliss #happymemories #happiness #s6photography #f4fofficial #fnf #followback #tagforlikes #ig_uttarakhand #india_undiscovered #phototag_it #hobbyphotographer #fire #india #travelbug #nofilter
More...